Saturday, 8 September 2018

“ जय गोलू देवता "


                         
“ (गोलू देवता की कहानी - https://umjb.in/lokkathaye/golu-devta--folk-story-of-goljyu )

जय गोलू देवता, जय जय तुम्हारी
मेरे इष्ट ,जय जय तुम्हारी।
, बालागोलिया,ओ दूधाधारी ,
मेरे इष्ट, जय जय तुम्हारी।

तुम्हारी शरण में आता जो,
खाली हाथ न जाता वो।
एक बार जो पुकारे नाम तुम्हारा ,
कृपा अपार है पाता वो।
नितदिन पूजें तुम्हेऐ कृष्णावतारी
मेरे इष्ट, जय जय तुम्हारी।

सुखी दुखी सब तुम्हारे पास आये ,
न्याय मांगे तुम से गुहार लगाये।
तुम से भी न दुःख देखा जाता ,
हर भक्त के दुःख दूर भगाए।
तुम ही हमारे न्यायधीशतुम न्यायकारी ,
मेरे इष्ट , जय जय तुम्हारी।

देश विदेश से भक्त हैं आते ,
कृपा तुम्हारी है सभी वे पाते।
अर्ज़ियाँ लगाते ,मिन्नतों की ,
घंटिया चढ़ातेतुम्हारे गुण गाते।
तुम्ही सब कुछतुम्ही पालनहारी ,
मेरे इष्ट ,जय जय तुम्हारी।

     रचनाकार  - वैभव जोशी (सर्वाधिकार सुरक्षित )
     उत्तराखण्ड मेरी जन्मभूमि 

No comments:

Post a comment