Sunday, 17 June 2018

ओ हिमालय/ O Himalaya!


ओ हिमालय,
ओ महान हिमालय
तुम निडर थे,
मजबूत थे,सशक्त थे
स्वाभिमान था तुम्हे,
अभिमान था तुम्हे
तुम्हारे होने पर
सबसे ऊंचा होने पर

Mount. Trishul from Almora
पर देखो मैंने(इंसान) क्या किया
चुटकियो में तोड़ दिया
अभिमान तुम्हारा
बिगाड़ दी शक्ल तुम्हारी
सुखा दिया तुम्हे
तुम्हारा अभिमान तोड़ दिया

तुम्हे लगता था बहुत छोटा हूँ
सामने तुम्हारे
तुम्हे लगता था महज, लेकिन
मैं इंसान हूँ कुछ भी कर सकता हूँ।

- वैभव जोशी (  © उत्तराखंड मेरी जन्मभूमि )


 English:

O Himalaya!
O great great Himalaya!
Dauntless you were,
Strong & inviolable too,
With plenty of self esteem,
How arrogant you were!
On being at zenith..


But look, what i did? 
I broke your zeal in seconds,
Disfigured your glorifying face,
Devoid you of all your grace.

You opined.......
Man is too tiny in front of you.
You thought only!
But I am human! I can do anything!


- Vaibhav Joshi ( © Uttarakhand meri janmbhoomi)

Thursday, 7 June 2018

Uttarakhand Folk Story - Uma | उत्तराखंड लोक कथा - उमा


क्या अपने सुनी है गढ़वाल में प्रचलित यह लोककथा - 'उमा'
"कहा जाता है कि नन्हीं उमा ही अगले जन्म में हिमालय की पुत्री उमा बनीं। शिव जी का जब उमा से विवाह हुआ तो उन्होंने उनकी तपस्या से प्रसन्न होकर हिमालय में उगने वाले इन देवदार वृक्षों को अपने दत्तक पुत्र के रूप में स्वीकार किया।" पूरा पढ़े - https://umjb.in/lokkathaye/deodar-a-story-of-uma

जानिए क्यों मनाया जाता है बसंत पंचमी

सुप्रभात माँ सरस्वती के पावन पर्व बसन्त पंचमी की आप और आपके परिवार जनो को बहुत बहुत बधाई शुभकामनाएँ। https://umjb.in/gyankosh/basant-pancha...